गीता आचरण के बारे में

भगवद गीता भगवान कृष्ण और योद्धा अर्जुन के बीच की बातचीत है। गीता आनंदमय होने और मोक्ष (मोक्ष) प्राप्त करने के लिए मानवता के लिए भगवान का मार्गदर्शन है जो भौतिक दुनिया के सभी ध्रुवों से अंतिम मुक्ति है। वह कई रास्ते दिखाता है जिसे किसी के स्वभाव और कंडीशनिंग के आधार पर अपनाया जा सकता है।

 

यह वेबसाइट वर्तमान समय के संदर्भ में गीता की व्याख्या करने का एक प्रयास है। शिव प्रसाद एक भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) अधिकारी हैं। यह वेबसाइट 25 वर्षों से अधिक समय से सार्वजनिक जीवन में रहकर स्वयं और लोगों के जीवन को देखकर गीता को समझने का परिणाम है।

 

नवीनतम अध्याय

37. जीने का तरीका है ‘कर्मयोग’ | 02/08/2022

‘वही अर्जुन वही बाण’ – इन शब्दों का इस्तमाल अक्सर ऐसी स्थिति का वर्णन करने के लिए किया जाता है, जब एक सफल/सक्षम व्यक्ति काम पूरा करने में विफल रहता है।

एक योद्धा के रूप में अर्जुन कभी युद्ध नहीं हारे थे। अपने जीवन के उत्तरार्ध में, वह एक छोटी सी लड़ाई हार गए जिसमें उन्हें परिवार के कुछ सदस्यों को डाकुओं के समूह से बचाना था।

अधिक पढ़ें

अब फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है

गीता आचारण

एक साधक की दृष्टि से

यह पुस्तक भगवद गीता पर साप्ताहिक लेखों का संकलन है। प्रत्येक लेख स्वतंत्र है जिसमें गीता के विभिन्न पहलुओं की व्याख्या है और साधक किसी भी लेख को बेतरतीब ढंग से चुन सकता है।


Buy Now Download Sample Book


नवीनतम अध्याय

40. 'कर्तापन' की भावना को छोडऩा

श्रीकृष्ण अर्जुन से कहते हैं कि तुम सफलता तथा असफलता जैसी ध्रुवियताओं को त्याग कर कार्य करोगे तो वह समत्व ही योग कहलाता है।

39. प्रभुत्व की कुंजी है ’आत्मज्ञान’

कर्ण और अर्जुन कुंती से पैदा हुए थे लेकिन अंत में विपरीत पक्षों के लिए लड़े। अर्जुन के साथ महत्वपूर्ण लड़ाई के दौरान शाप के कारण कर्ण का युद्ध ज्ञान और अनुभव उसके बचाव में नहीं आया। वह युद्ध हार गया और मारा गया।<

38. क्रिया और प्रतिक्रिया

श्रीकृष्ण कहते हैं कि हमें कर्म करने का अधिकार है लेकिन कर्मफल पर हमारा कोई अधिकार नहीं है। इसका यह मतलब नहीं है कि हम अकर्म की ओर बढ़ें, जो निष्क्रियता या परिस्थितियों की प्रतिक्रिया मात्र हैं।।


सभी अध्याय

संपर्क करें

Loading
Your message has been sent. Thank you!