श्री कृष्ण कहते हैं (2.19, 2.20) कि आत्मा न मारती है और न मरती है। यह अजन्मी, शाश्वत, परिवर्तनहीन और प्राचीन है। आत्मा शरीर उसी तरह बदलती है, जैसे हम नए वस्त्र पहनने के लिए पुराने वस्त्रों को त्याग देते हैं।

वैज्ञानिक दृष्टि में इसे ऊर्जा से जुड़े सिद्धांतो द्वारा अच्छी तरह से समझाया जा सकता है। आत्मा कि तुलना ऊर्जा से करने पर भगवान कृष्ण के वचन स्पष्ट हो जाते हैं।

ऊर्जा के संरक्षण के नियम कहता है कि ऊर्जा को कभी नष्ट नहीं किया जा सकता है, केवल एक रूप से दूसरे रूप में परिवर्तित किया जा सकता है।

उदाहरण के लिए, थर्मल पावर स्टेशन थर्मल ऊर्जा को बिजली में परिवर्तित करते हैं।

एक बल्ब बिजली को प्रकाश में बदलता है। तो, यह सिर्फ रूपांतरण है और कोई विनाश नहीं है। एक बल्ब का जीवनकाल सीमित होता है। यह फ्यूज हो जाता है, तो इसे एक नए बल्ब से बदल दिया जाता है, लेकिन बिजली अभी भी बनी हुई है।

हमारे लिए मृत्यु अनुमानों के आधार पर निकला गया एक निष्कर्ष है, अनुभव नहीं। हमारी समझ यह है कि हम सभी एक दिन मरेंगे और हम इसका अनुमान तब लगाते हैं जब हम दूसरों को मरते हुए देखते हैं। हमारे लिए मृत्यु का अर्थ है शरीर का खत्म होना और इंद्रियों का काम करना बंद कर देना है।

हमारे पास अपनी शरीर की मृत्यु के बारे में जानने या उसका अनुभव करने का कोई तरीका नहीं है, सिवाय इसके कि हम जो अनुमान लगाते हैं कि मृत्यु हम सभी के लिए निश्चित है। हमारा जीवन मृत्यु और उससे जुड़े भय के इर्द-गिर्द घूमता है।

भगवान कृष्ण कहते हैं कि बाकी सब कुछ संभव है, लेकिन मृत्यु कोई संभावना नहीं है, यह सिर्फ एक भ्रम है। जब कपड़े खराब हो जाते हैं, तो वे हमारी रक्षा नहीं कर सकते हैं और हम उन्हें नए के साथ बदल देते हैं। इसी तरह, जब हमारा भौतिक शरीर अपने कर्तव्यों का पालन करने में असमर्थ होता है, तो उसे बदल दिया जाता है।


English - Read

Source - Punjabi Kesari

 

< Previous Chapter | Next Chapter >